डॉ. मनोहर भंडारी

हमारी धरती माता हमें एक बीज के बदले लाखों अन्न के दाने या फल देती है। ऐसी अन्नपूर्णा माता के पेट में रासायनिक कूड़ा-करकट,...
पैसा है मगर मोटापा है, हृदय रोग है, पेट रोग है, मधुमेह है, तनाव है। भोजन है, भूख नहीं। भोजन है मगर डॉक्टरी प्रतिबंध जबर्दस्त...
पैसा है मगर मोटापा है, हृदय रोग है, पेट रोग है, मधुमेह है, तनाव है। भोजन है, भूख नहीं। भोजन है मगर डॉक्टरी प्रतिबंध जबर्दस्त...
अपने पर्यावरण की रक्षा हमें ही करना होगी अन्यथा ग्लोबल वॉर्मिंग हमारी पीढ़ियों को अपनी आग में हर दिन झुलसाएगी और वे...
वैज्ञानिकों के अनुसार माइक्रोवेव ओवन की ऊर्जा रूपी विकिरण किरणें खाद्य पदार्थों के भीतर के रासायनिक और आणविक बंधन...
वैज्ञानिकों के अनुसार माइक्रोवेव ओवन की ऊर्जा रूपी विकिरण किरणें खाद्य पदार्थों के भीतर के रासायनिक और आणविक बंधन...
एक तरफ पूरा वैज्ञानिक और चिकित्सा जगत जानता और मानता है कि सीसा मानव शरीर के लिए शुद्ध रूप से जहर (लेड पॉइजनिंग) है। इसकी...
जाने-माने कथाकार अरुण प्रकाश की कहानियों का संग्रह है-'स्वप्न-घर'। अरुण प्रकाश वर्तमान में 'समकालीन भारतीय साहित्य'...
गर्मी की छुट्टियों में कई बड़ी फिल्में प्रदर्शित होती है क्योंकि बच्चों के साथ बड़े भी थिएटर में फिल्म देखने आते हैं।...
आमतौर पर हमें वर्तमान की, अपने आसपास की घटनाओं की जानकारी होती है। भविष्य अथवा पूर्वजन्मों की घटनाओं का हमें ज्ञान...
अब तो 'ब्लैक फ्राइडे' जैसी फिल्में सराही जाने लगी हैं, जिसमें केवल मरीन ड्राइव और जुहू की खूबसूरती और हलचल नहीं, विस्फोट...
हाल ही में जब इंडस्ट्री में रीमेक की बयार चली तो सभी उसी दिशा में बहने लगे। बहुत कम ही फिल्म ऐसी बची होंगी, जिसका रीमेक...
पिछले पाँच सालों में बॉलीवुड का स्वरूप जिस तरह से बदला है, उसमें नई पीढ़ी का हाथ कहें तो अतिश्योक्ति नहीं होगी।
पर्यावरण प्रदूषण के साथ ही मानव नई-नई बीमारियों से जूझने के लिए विवश हुआ है। स्वच्छ प्राकृतिक वातावरण में स्वच्छंद...
शिवरानी देवी ने 'प्रेमचंद घर में' नाम से उनकी जीवनी लिखी और उनके व्यक्तित्व के उस हिस्से को उजागर किया है, जिससे लोग अनभिज्ञ...
अच्छा-अच्छा शासकीय मुनादी है कि सभी निजी वाहनों निजी पर नंबर पट्टिका सफेद रंग की होना चाहिए और उस पर काले रंग से नंबर...
इसमें कोई शक नहीं कि युवाओं को यौन शिक्षा दी जानी चाहिए, लेकिन हमें यह भी ध्यान रखना होगा कि किस उम्र के लड़के-लड़कियों...
अक्सर देखा गया है कि बुखार आने पर आम आदमी क्रोसिन या मेटासिन की गोली खाकर निश्चिंत हो जाता है जबकि बुखार इस बात का संकेत...