नर्मदाप्रसाद उपाध्याय

लेखक संस्कृतिविद्, ललित निबंधकार और कला इतिहासकार हैं। वाणिज्यकर विभाग में निदेशक रहे हैं।
एक अनमोल विरासत मुंबई में है जिसे छत्रपति शिवाजी महाराज वास्तु संग्रहालय के नाम से आज जाना जाता है।इसका पूर्व नाम प्रिंस...
इसीलिये मैं श्रद्धेय विद्यानिवास मिश्र को कभी स्वर्गीय नहीं कहता,कम से कम मेरे लिए वे दिवंगत नहीं हुए। उनकी अक्षर...
मां जैसी दुर्लभ देन मनुष्य जाति के लिए कोई दूसरी नहीं। एक ओर वह वात्सल्य की प्रतिमूर्ति है तो दूसरी ओर शक्ति का अजस्र...