राजश्री कासलीवाल

हमारे पौराणिक शास्त्रों में प्रतिमाह आने वाली अमावस्या तिथि बहुत महत्वपूर्ण मानी गई है। इन दिनों पितृ तर्पण, नदी स्नान...
संत गाडगे बाबा के जीवन का एकमात्र ध्येय था- लोक सेवा। दीन-दुखियों तथा उपेक्षितों की सेवा को ही वे ईश्वर भक्ति मानते थे।...
भगवान काल भैरव को प्रसन्न के लिए उनको काली उड़द से बने व्यंजनों का भोग/ प्रसाद चढ़ाने का विधान है। अभी कोरोना के समय...
भगवान महावीर का जीवन सत्य, अहिंसा और मानवता का संदेश देता है। उनका जीवन एक खुली किताब की तरह है। भगवान महावीर जैन धर्म...
मुनि विद्यासागरजी का जन्म 10 अक्टूबर 1946 को बेलगांव जिले के गांव चिक्कोड़ी में शरद पूर्णिमा के दिन हुआ। उनका नाम विद्याधर...
प्रसिद्ध शिर्डी स्थित श्री साईं बाबा ने सन् 1918 में दशहरे के दिन दोपहर के समय आखिरी सांस ली थी। ऐसा कहा जाता है कि साईं...
विश्व पर्यटन दिवस 2020 में 27 सितंबर, रविवार को मनाया जाएगा। इस वर्ष की थीम 'पर्यटन और ग्रामीण विकास' पर रखी गई है। आप सभी...
संजा पर्यावरण को समर्पित एक लोक पर्व है। यह पर्व प्रकृति की देन फल-फूल, गोबर, नदी, तालाब आदि के देखरेख के साथ ही हमें इन...
पयुर्षण पर्व के दस दिन मन का अहंकार दूर करके झुकने की कला, दूसरों का दिल जीतने की, किसी के भी दिल को ठेस न पहुंचाने की शिक्षा...
1 सितंबर 2020 को दिगंबर जैन समुदाय के दशलक्षण महापर्व की समाप्ति हो गई है। इसके अंतर्गत मनाया जाने वाला खास पर्व
दिगंबर जैन समाज में पर्युषण पर्व के अंतर्गत आने वाली दशमी तिथि यानी 28 अगस्त, शुक्रवार को धूप/सुगंध दशमी पर्व मनाया जाएगा।...
23 अगस्त 2020, रविवार से दिगंबर जैन समाज में पर्वों के राजा कहे जाने वाले महापर्व पर्युषण शुरू हो गए हैं, लेकिन इस बार कोरोना...
दिगंबर जैन समाज में 21 अगस्त 2020, शुक्रवार को रोट तीज पर्व मनाया जाएगा। रोट तीज के दिन बनाया जाने वाला यह एक विशेष व्यंजन...
पौराणिक मान्यता के अनुसार नागपंचमी के दिन गैस की आंच पर तवा नहीं रखा जाता है। अत: इस दिन अधिकतर घरों में दाल-बाटी और चूरमा...
इस वर्ष में मौना पंचमी शुक्रवार, 10 जुलाई 2020 को मनाई जाएगी। श्रावण महीने के कृष्ण पक्ष में आने वाली पंचमी को मौना पंचमी...
काबुली चने को मीठा सोडा मिलाकर 8 घंटे भिगोएं फिर कुकर में गलने तक पकाएं। जब चने गल जाएं तो उसमें नमक
मार्गशीर्ष के महीने को भगवान श्री कृष्ण का स्वरूप माना गया है, इस माह शंख की पूजा भी की जाती है। इस माह में ऐसी चमत्कारी...
कवि सूरदास का जन्म दिल्ली के पास सीही नाम के गांव में बहुत निर्धन सारस्वत ब्राह्मण परिवार में हुआ था। उनके तीन बड़े...
श्री सत्य साईं बाबा का जन्म 23 नवंबर 1926 को आंध्रप्रदेश के पुट्‍टपर्थी गांव में हुआ था। वे पेदू वेंकप्पाराजू एवं मां ईश्वराम्मा...
पौराणिक जानकारी के अनुसार भगवान भोलेनाथ के पसीने से वास्तु पुरुष की उत्पत्ति हुई है। संपूर्ण वास्तु शास्त्र इन्ही...