अमिताभ बच्चन के डॉन को 42 साल: स्क्रिप्ट कई बार हुई रिजेक्ट, पहले सप्ताह नहीं मिले दर्शक

समय ताम्रकर

मंगलवार, 12 मई 2020 (11:58 IST)
अमिताभ बच्चन अभिनीत 'डॉन' उनकी बेहतरीन फिल्मों में गिनी जाती है। इस फिल्म के सभी गाने आज भी सुने जाते हैं। अमिताभ ने इस फिल्म में डबल रोल निभाया था और बॉक्स ऑफिस पर यह फिल्म बेहद कामयाब रही थी। 12 मई को इस फिल्म को रिलीज हुए 42 वर्ष हो गए। 
 
इस फिल्म के बारे में बिग बी ने अपने ब्लॉग में लिखा था- 'डॉन को नरीमन ईरानी ने बनाया था। फिल्म के निर्माता नरीमन ए. ईरानी ने राजकमल स्टुडियो में शूटिंग के दौरान एक बच्चे की जान बचाई थी। नरीमन बच्चे को बचाते हुए घायल हो गए थे। उनकी हड्डी टूट गई। उन्हें अस्पताल में भर्ती करना पड़ा। सर्जरी हुई। वे ठीक हुए, लेकिन कुछ समस्याएं फिर उत्पन्न हुई और वे इस दुनिया से चले गए।' 
 
फिल्म के गीत 'अरे दीवानों, मुझे पहचानो' और हेलन पर फिल्माया गया 'ये मेरा दिल' आज भी लोगों को याद है। ऐसा ही एक और गाना 'खईके पान बनारस वाला' बेहद मशहूर हुआ था। अमिताभ ने इस गाने के बारे में दिलचस्प बात अपने ब्लॉग पर बताई। 
 
वे लिखते हैं 'एक्शन सीन के दौरान मेरे पैर पर चोट आ गई थी। मैं जूते या चप्पल पहनना तो दूर चल भी नहीं सकता था। पेन किलर के इंजेक्शन लेकर नंगे पैर ही मैंने यह गाना शूट किया। फिल्म के लेखक सलीम-जावेद को यह गाना इतना पसंद आया कि रशेज देख कर उन्होंने मुझे टेलीग्राम कर बधाई दी। उस समय मैं श्रीनगर में शूटिंग कर रहा था। मुझे पैलेस होटल का वो रूम आज भी याद है जहां पर मुझे ये संदेश मिला था और मैं खुशी से झूम उठा था।' 
 
डॉन के बारे में खास बात : 
फिल्म के निर्माता नरीमन ईरानी द्वारा निर्मित 'जिंदगी जिंदगी' (1972) पिट गई थी और वे आर्थिक संकट से घिर गए। रोटी कपड़ा और मकान की वे सिनेमाटोग्राफी कर रहे थे। इस फिल्म में काम कर रहे अमिताभ, जीनत अमान और प्राण ने उन्हें सलाह दी कि वे नई फिल्म शुरू करें जिसमें वे अभिनय करेंगे। 
 
तीनों ने सलीम-जावेद से सम्पर्क कर एक स्क्रिप्ट मांगी। इस लेखक जोड़ी ने ऐसी स्क्रिप्ट दी जिसे कई निर्माता रिजेक्ट कर चुके थे। इसमें डॉन एक किरदार को कहा जाता है इसलिए फिल्म का नाम डॉन रखा गया। दुर्भाग्य ने नरीमन का पीछा नहीं छोड़ा और शूटिंग के दौरान ही उनकी मौत हो गई। 
 
फिल्म के निर्देशक चंद्रा बारोट ने कलाकारों की मदद से किसी तरह फिल्म को पूरा किया। फिल्म किसी तरह रिलीज की गई, लेकिन पहले सप्ताह में फिल्म को दर्शक नहीं मिले। धीरे-धीरे 'खईके पान बनारस वाला' ‍लोकप्रिय हुआ और इसके बाद दर्शक फिल्म देखने के लिए उमड़ पड़े। फिल्म ब्लॉकबस्टर साबित हुई और इससे जो भी आय हुई वो नरीमन ईरानी की पत्नी को दी गई। 
 
जावेद के बेटे फरहान अख्तर ने इस फिल्म का रीमेक बनाना चाहा। फरहान को जावेद ने कहा कि इसकी कहानी मैंने और सलीम खान ने मिलकर लिखी है इसलिए उनकी सहमति भी जरूरी है। गौरतलब है कि जब तक जावेद और सलीम के संबंध पहले जैसे नहीं थे। 
 
सलीम खान से मिलने फरहान पहुंचे और उन्होंने खुशी-खुशी इजाजत दे दी। 2006 में फरहान ने शाहरुख खान को लेकर 'डॉन' का रीमेक बनाया। फिल्म ने ठीक-ठाक व्यवसाय किया। शाहरुख की तुलना अमिताभ से की गई और ज्यादातर लोगों ने माना कि डॉन के रूप में अमिताभ के मुकाबले शाहरुख कहीं नहीं ठहरते। 2011 में डॉन का खबर है कि फरहान इसका तीसरा भाग भी बनाना चाहते हैं। 

वेबदुनिया पर पढ़ें

सम्बंधित जानकारी