भोजन संबंधी ये 30 खास बातें मान ली तो सेहत के साथ धन भी मिलेगा

अनिरुद्ध जोशी

सोमवार, 18 जनवरी 2021 (16:12 IST)
खाना बनाना भी एक कला है। हालांकि जो मिले, वही खा लें, इसी में भलाई है। खाने के प्रति लालसा नहीं रखनी चाहिए, लेकिन खाने की क्वालिटी से कभी समझौता नहीं करना चाहिए। आयुर्वेद और हिन्दू धर्म अनुसार भोजन से ही रोग उत्पन्न होते हैं और भोजन की आदत बदलने से ही रोग समाप्त भी हो जाते हैं। हिन्दू धर्म में किस नक्षत्र या वार को कौन सा भोजन करना चाहिए और कौन सा नहीं इसका उल्लेख मिलता है।
 
 
देश और दुनिया के सभी तरह के भोजन की जानकारी रखेंगे तो आपको अच्छा लगेगा। कभी-कभी घर में परंपरागत भोजन से हटकर भी ऐसा भोजन बनाएं, जो आपके मन को खुशी दे। तरह-तरह के भोजन और उनको बनाने संबंधी जानकारी भी किताबी रूप में उपलब्ध हैं। इसके अलावा जीवनोपयोगी वस्तुओं की भी आपको जानकारी होनी चाहिए। जैसे बिजली की अनुपस्थिति में लालटेन, चिमनी, टॉर्च, हाथ पंखा होना चाहिए। गैस के न होने पर सिगड़ी, इंडक्सन या हीटर होना चाहिए। इसके अलावा मल्टीपल पेचकस, फोल्डिंग सीढ़ी, केतली, सुराही, नीम और अरंडी का तेल, चकमक पत्थर, फोल्डिंग डंडा, घट्टी, सिलबट्टा और खलबत्ता, रेत घड़ी एवं चुंबकीय दिशा सूचक कंपास या यंत्र, सूखे खाद्य पदार्थ, पानी फिल्टर मशीन आदि ऐसी हजारों वस्तुएं हैं, जो हमारे जीवन में काम आती हैं या अचानक आ सकती हैं।
 
 
1. प्रतिपदा को कुष्माण्ड (कुम्हड़ा पेठा) न खाएं, क्योंकि यह धन का नाश करने वाला है।
2. द्वितीया को छोटा बैंगन व कटहल खाना निषेध है।
3. तृतीया को परमल खाना निषेध है, क्योंकि यह शत्रुओं की वृद्धि करता है।
4. चतुर्थी के दिन मूली खाना निषेध है, इससे धन का नाश होता है।
5. पंचमी को बेल खाने से कलंक लगता है अत: पंचमी को बेल खाना निषेध है।
6. षष्ठी के दिन नीम की पत्ती खाना एवं दातुन करना निषेध है, क्योंकि इसके सेवन से एवं दातुन करने से नीच योनि प्राप्त होती है।
7. सप्तमी के दिन ताड़ का फल खाना निषेध है। इसको इस दिन खाने से रोग होता है।
8. अष्टमी के दिन नारियल खाना निषेध है, क्योंकि इसके खाने से बुद्धि का नाश होता है।
9. नवमी के दिन लौकी खाना निषेध है, क्योंकि इस दिन लौकी का सेवन गौ-मांस के समान है।
10. दशमी को कलंबी खाना निषेध है।
11. एकादशी को सेम फली खाना निषेध है।
12. द्वादशी को (पोई) पु‍तिका खाना निषेध है।
13. तेरस (त्रयोदशी) को बैंगन खाना निषेध है।
14. अमावस्या, पूर्णिमा, संक्रांति, चतुर्दशी और अष्टमी, रविवार श्राद्ध एवं व्रत के दिन स्त्री सहवास तथा तिल का तेल, लाल रंग का साग तथा कांसे के पात्र में भोजन करना निषेध है।
15. रविवार के दिन अदरक भी नहीं खाना चाहिए।
16. कार्तिक मास में बैंगन और माघ मास में मूली का त्याग करना चाहिए।
17. अंजुली से या खड़े होकर जल नहीं पीना चाहिए।
18. जो भोजन लड़ाई-झगड़ा करके बनाया गया हो, जिस भोजन को किसी ने लांघा हो तो वह भोजन नहीं करना चाहिए, क्योंकि वह राक्षस भोजन होता है।
19. जिन्हें लक्ष्मी प्राप्त करने की लालसा हो उन्हें रात में दही और सत्तू नहीं खाना चाहिए, यह नरक की प्राप्ति कराता है।
20. खाने के पहले तीखा इसलिए खाते हैं क्योंकि इससे आपका पाचन तंत्र सक्रिय हो जाए। भोजन की शुरुआत में तीखा तथा अंत में मीठा खाने की सलाह दी जाती है।
21.अपराधी व्यक्ति, वैश्या, नशे का व्यापारी, शत्रु,  ब्याजखोर और हिजड़े के यहां भोजन नहीं करना चाहिए।
22. रजस्वला स्त्री, क्रोधी व्यक्ति, हर समय किसी की निंदा करने वाला व्यक्ति और अस्वस्थ व्यक्ति के हाथ का बना खाना नहीं खाना चाहिए।
23. किसी को झूठा, ठोकर लगा, बासी, किसी के निमित्त निकाला हुआ, फेंका हुआ, तामसिक भोजन को कभी ग्रहण नहीं करना चाहिए।
24. भोजन की थाली को हमेशा पाट, चटाई, चौक या टेबल पर सम्मान के साथ रखें। खाने की थाली को कभी भी एक हाथ से न पकड़ें। ऐसा करने से खाना प्रेत योनि में चला जाता है।
25. भोजन करने के बाद थाली में ही हाथ न थोएं। थाली में कभी जूठन न छोड़े। भोजन करने के बाद थाली को कभी, किचन स्टेन, पलंग या टेबल के नीचे न रखें। उपर भी न रखें। रात्रि में भोजन के जूठे बर्तन घर में न रखें।
26. भोजन करने से पूर्व देवताओं का आह्‍वान जरूर करें। भोजन करते वक्त वर्तालाप या क्रोध न करें। भोजन करते वक्त अजीब सी आवाजें न निकालें।
27. रात में चावल, दही और सत्तू का सेवन करने से लक्ष्मी का निरादर होता है। अत: समृद्धि चाहने वालों को तथा जिन व्यक्तियों को आर्थिक कष्ट रहते हों, उन्हें इनका सेवन रात के भोजन में नहीं करना चाहिए। 
28. भोजन सदैव पूर्व या उत्तर की ओर मुख करके करना चाहिए। संभव हो तो रसोईघर में ही बैठकर भोजन करें इससे राहु शांत होता है।
29. जूते पहने हुए कभी भोजन नहीं करना चाहिए। सुबह कुल्ला किए बिना पानी या चाय न पीएं।
30.अच्छे मन से बनाया और अच्छे मन से खाया हुआ भोजन ही शरीर को लाभ पहुंचाता है।

वेबदुनिया पर पढ़ें

सम्बंधित जानकारी