पं. अंकित नारायण व्यास

(पं. सूर्यनारायण व्यास खगोल एवं ज्योतिष शोध संस्थान) लेखक ज्योतिष, वास्तु, न्यूमेरोलॉजी और रत्न विज्ञान के ज्ञाता हैं।
देवी पुराण के अनुसार मां भगवती की पूजा-अर्चना करते समय सर्वप्रथम कलश / घट की स्थापना की जाती है। घट स्थापना करना अर्थात...
कलश को सुख-समृद्धि, वैभव और मंगल कामनाओं का प्रतीक माना गया है। कलश के मुख में विष्णुजी का निवास, कंठ में रुद्र तथा मूल...
धर्म ग्रंथों के अनुसार, गणेश चतुर्थी के दिन भगवान श्रीगणेश का प्राकट्य माना जाता है। इस दिन भगवान श्रीगणेश को प्रसन्न...
शनि देव 11 मई 2020 को सुबह 9:09 पर अपनी स्वराशि मकर में वक्री हो गए हैं। वक्री शनि से कैसा होगा 12 राशियों का हाल ....
मंगल कुंभ राशि में 18 जून 2020 तक गोचर करेंगे। कुंभ राशि के स्वामी शनि देव हैं और मंगल ग्रह शनि ग्रह को अपना शत्रु मानता...
बुध मीन राशि से अपनी शत्रु राशि मेष में 24 अप्रैल को प्रवेश कर गए हैं।इस राशि परिवर्तन का 12 राशियों की सेहत पर मिलाजुला...
यह ग्रहण वृषभ, कन्या, धनु, मकर राशि वालों के लिए अशुभ फलदायक रहेगा एवं मेष, कर्क, सिंह, वृश्चिक राशि वालों के लिए मध्यम...