प्रज्ञा पाठक

ये भारतीय पतियों द्वारा अपनी गृहिणी पत्नी को बोला जाने वाला आम जुमला है - "तुम करती क्या हो घर में। बस, खाना बनाना और बच्चों...
परीक्षाओं का दौर शुरू हो गया है। इन दिनों अभिभावकों के चेहरे पर चिंता की लकीरें स्पष्ट रूप से देखी जा सकती हैं और बच्चों...
अपने दैनिक जीवन में हम प्रायः कंफर्ट अर्थात् सुविधा को प्राथमिकता देते हैं। ठंडी हवा चाहिए, तो कूलर है, एसी है। गर्मी...
एक लंबे अरसे के बाद वो अपनी मौसी के घर रात रुकी थी। रात को अपने मौसी, मौसाजी, पापा, मम्मी, भाई, भाभी और बच्चों को एक साथ भोजन...
देश के मुखिया से सीधा निवेदन कि आपके मन की बात आप प्रायः करते हैं और हम सुनते, समझते व सराहते भी हैं। लेकिन मोदी जी, अब...
26 जनवरी का हो-हल्ला बीत गया। छोटी-बड़ी परेड, राष्ट्रगान, राष्ट्रगीत, झंडा वंदन, भाषणबाजी, देशभक्ति पूर्ण गीत, नृत्य के...
सुप्रीम कोर्ट की वरिष्ठ वकील और मानवाधिकार कार्यकर्ता इंदिरा जयसिंह ने निर्भया की मां आशा देवी से उनकी बेटी के बलात्कार...
उसकी आंखों में आंसू झिलमिला आए थे, सिर्फ इतनी सी बात पर कि 58 के पतिदेव थोड़ा दुबला गए हैं। आज से 27 साल पहले शादी के समय भी...
आपने कभी गौर किया है कि हम सदा अपनी सुनाने में यकीन रखते हैं। अपने भीतर का उड़ेलने के लिए आतुर, आत्माभिव्यक्ति के लिए...
प्रात:काल का समय मंगल का, शुभ का माना जाता है। हम में से लगभग हर दूसरे घर में सुबह स्नान कर भगवान की पूजा या नाम स्मरण अवश्य...
ईश्वर यह नहीं देखता कि आप कितनी बार मंदिर गए? कितनी देर उसकी मूर्ति के समक्ष बैठकर विधि-विधान से उसकी पूजा की? कितने वर्षों...
हाल ही में मंगलमूर्ति श्री गणेश को हमने विदाई दी है। दस दिवसीय आयोजन में सहोल्लास हिस्सा लेकर खूब मंगल गीत गाए, मंगल...
जब किसी कटुता के चलते मन में संबंधित के प्रति गांठ पड़ जाती है और लाख उसके क्षमा मांगने पर भी हम उसके प्रति अपनी शिकायत...
उन्नाव कांड- हम नारियों के सीने में एक और खंजर! तथाकथित सुशिक्षित समाज के मुंह पर एक और झन्नाटेदार तमाचा। भारतीय राजनीति...
आखिर वो बहुप्रतीक्षित फैसला आ ही गया। तीन तलाक अब गैर कानूनी, दंडनीय। सच जानिए,आज हर वो महिला दिल से खुश होगी, जो सिर्फ...
एक दिन मैंने घर के बाहर अपनी गाड़ी रोकी। उतरते ही दीदी की हंसी सुनाई दी। बहन की हंसी से लगा, मानो दिनभर का बोझ उतर गया।
भारतीय घर-परिवारों में आमतौर पर बुज़ुर्ग दो दशाओं में दिखाई देते हैं। या तो नई पीढ़ी से तालमेल के अभाव में वे उपेक्षित-से...
प्राय: सभी परिवारों में बच्चों को बेहतर भविष्य के लिए अध्ययन के प्रति निष्ठावान रहने की सीख दी जाती है और अधिकांश बच्चे...
गृहस्थ जीवन में कई बार ऐसा समय आता है, जब नीरसता अनुभूत होती है। सब कुछ बेमानी लगने लगता है। अकेलापन भले घर में ना हो,...
अपने आसपास के लोगों में प्राय: हम कृपणता का भाव देखते हैं। यह कृपणता उनकी सोच से लेकर आचरण और घर से लेकर बाहर तक हर कहीं...