श्री रामानुज

सूर्य यानी सृष्टि का निर्माता, यदि सूर्य न हो तो इस धरती पर जीवन की कल्पना भी नहीं की जा सकती है। विश्व की कई प्राचीन सभ्यताओं...
दीपावली के समय महानिशीथ काल के दौरान इस पूजन का महत्व है। यह मध्य रात्रि के समय आने वाला मुहूर्त है। इसे तांत्रिक पूजा...
लक्ष्मी पूजन का सबसे उत्तम समय प्रदोष काल माना जाता है। देवी लक्ष्मी का पूजन प्रदोष काल (सूर्यास्त के बाद के तीन मुहूर्त)...
धनतेरस कार्तिक माह में कृष्ण पक्ष की उदयव्यापिनी त्रयोदशी को मनाई जाती है। यहां उदयव्यापिनी त्रयोदशी से मतलब है कि,...
भाई दूज (यम द्वितीया) कार्तिक शुक्ल पक्ष की द्वितीया को मनाई जाती है। शास्त्रों के अनुसार कार्तिक शुक्ल पक्ष में द्वितीया...
गोवर्धन पूजा कार्तिक माह में शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा को मनाई जाती है। गोवर्धन पूजा कार्तिक शुक्ल प्रतिपदा के दिन मनानी...
कार्तिक मास की कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी को नरक चतुर्दशी मनाई जाती है। इसके पीछे दो विभिन्न परंपरा हैं।
हनुमान जन्मोत्सव पर और बाद में साल में एक बार किसी भी मंगलवार को रक्तदान करने से आप हमेशा दुर्घटनाओं से बचें रहेंगे।
किसी भी संकट से बचने और सुरक्षित रहने के लिए हनुमान चालीसा, बजरंग बाण, सुंदरकांड, रामायण, रामरक्षा स्तोत्र का पाठ करने...
11 अक्टूबर 2018 शाम 7.29 मिनट पर गुरु ने तुला राशि से वृश्चिक राशि में प्रवेश कर लिया हैं। गुरु अब वृश्चिक राशि में 5 नवंबर 2019...
सर्वपितृ विसर्जनी अमावस्या अथवा महालय हिन्दू धर्म में अत्यंत ही महत्वपूर्ण तिथि मानी जाती है। इस दिन शास्त्रों के...
मेष राशि के जातकों के लिए शनि के उपाय- शनिवार के दिन अपने घर में श्री शिव रुद्राभिषेक करवाएं।
शनिदेव कर्म और सेवा के कारक हैं यानी इसका सीधा-सीधा असर व्यक्ति की नौकरी और व्यवसाय पर होता है। अत: अब नौकरी और व्यवसाय...
शनि न्याय के देवता हैं, वे कर्म और सेवा के कारक हैं। इसलिए शनिदेव का यह मार्ग परिवर्तन सत्ता पक्ष के लिए ठीक नहीं माना...
गणेशजी का नाम हिन्दू धर्म के 5 प्रमुख देवों (पंचदेव) में शामिल है। शास्त्रों में गणेशजी के 12 प्रसिद्ध नाम बताए गए हैं...
भगवान गणेश के पूजन में तुलसी का प्रयोग वर्जित है। वैसे तो तुलसीजी देवीस्वरूपा और प्रात: पूजनीय है लेकिन गणपति पूजन...
हवन करने के लिए जिन लकड़ियों का प्रयोग होता है, उन्हें समिधा कहा जाता है। समिधा के लिए आप कौन से वृक्ष की लकड़ियां प्रयोग...
किसी भी पूजन-पाठ की पूर्ति करने के लिए हवन या होम किया जाना आवश्यक है, परंतु हवन के नियम अनुसार 4 ऐसे तत्व/पदार्थ हैं जिनके...
अमावस्या को पीपल के पेड़ के नीचे दीया जलाने से पितृ और देवता प्रसन्न होते हैं। इस दिन सुबह-शाम घर के मंदिर और तुलसी पर...
अमावस्या के दिन बुरे कार्यों तथा नकारात्मक विचारों से दूरी बनाए रखने में हमारी भलाई है। आइए जानें इस दिन क्या न करें...