अनिल जैन

दिल्ली के रामलीला मैदान में ठीक पांच साल पहले भी इसी जनवरी के महीने में भाजपा की राष्ट्रीय परिषद का अधिवेशन हुआ था।...
दिल्ली के रामलीला मैदान में ठीक 5 साल पहले भी इसी जनवरी के महीने में भाजपा की राष्ट्रीय परिषद का अधिवेशन हुआ था। उस समय...
सरकारी नौकरियों और शैक्षणिक संस्थानों में आर्थिक आधार पर आरक्षण दिए जाने के विभिन्न सरकारों के जो फैसले अब तक उच्च...
नया साल शुरू हो चुका है और उससे पहले शुरू हो चुकी है हाड़ कंपकंपा देने वाली सर्दी। हर साल जब हिमालय पर्वतमाला पर बर्फ...
मध्य प्रदेश, राजस्थान और छत्तीसगढ़ के विधानसभा चुनाव नतीजों से बहुजन समाज पार्टी की सुप्रीमो मायावती की हसरतों को गहरा...
अब इस हकीकत से कोई इंकार नहीं कर सकता कि कश्मीर का मसला अपनी विकृति की चरम अवस्था में पहुंच गया है। मौजूदा सरकार, शासक...
लोकसभा चुनाव से ऐन पहले जिन पांच राज्यों में अगले महीने विधानसभा के चुनाव होने जा रहे हैं, उनमें एक मध्यप्रदेश भी है।...
गंगा की सफाई को लेकर केंद्र सरकार की वादाखिलाफी, अकर्मण्यता और जुमलेबाजी ने एक और पर्यावरणविद संत की बलि ले ली। नगाधिराज...
जयप्रकाश नारायण (जेपी) और डॉ. राममनोहर लोहिया। 1942 के भारत छोड़ा आंदोलन के दो अप्रतिम नायक और आजादी के बाद भारतीय समाजवादी...
शिकागो (अमेरिका) में ठीक 125 वर्ष पहले 11 सितंबर 1893 को हुए धर्म सम्मेलन में स्वामी विवेकानंद ने अपने ऐतिहासिक वक्तव्य के...
बहुचर्चित भीमा-कोरेगांव में कुछ महीनों पहले हुई भीषण जातीय हिंसा के मामले में देश के विभिन्न शहरों में छापेमारी कर...
कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने 1984 के सिख विरोधी दंगों में कांग्रेस की भूमिका से इंकार किया हैं। उन्होंने उस हिंसा...
आगामी लोकसभा चुनाव को लेकर भाजपा की ओर से तो साफ है कि वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कंधे पर ही सवार होकर मैदान में...
लोकसभा में मोदी सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव के गिरने पर शायद ही किसी को हैरानी हुई होगी। जिन विपक्षी दलों ने अविश्वास...
आगामी लोकसभा चुनाव के लिए विपक्षी एकता के सवाल पर तमाम क्षेत्रीय दलों के बीच जारी पैंतरेबाजी के क्रम में राष्ट्रवादी...
हर साल की तरह इस बार भी 25 जून को आपातकाल की बरसी मनाई गई। लोकतंत्र की रक्षा की कसमें खाते हुए इस मौके पर 43 बरस पुराने उस...
मध्यप्रदेश में विधानसभा चुनाव के लिए छोटी तथा क्षेत्रीय पार्टियों के साथ तालमेल को लेकर कांग्रेस के प्रादेशिक नेतृत्व...
पिछले 4 वर्षों के दौरान देश में लोकसभा चुनाव समेत जितने भी चुनाव-उपचुनाव हुए हैं, सभी के नतीजों में प्राय: सत्ताविरोधी...
हमारे देश में राजनीतिक दलों के चुनावी घोषणा पत्रों को शायद ही कोई गंभीरता से लेता हो। न तो जनता और न ही राजनीतिक दलों...
एक समय था जब पंचायत से लेकर लोकसभा चुनाव तक बाहुबलियों की भूमिका बेहद अहम हुआ करती थी। खासकर उत्तर भारत के ग्रामीण और...