निर्मला भुरा‍ड़‍िया

पिता! एक निश्‍चिंतता का नाम है पिता। पिता छत है, पिता आकाश है। पिता वह सुरक्षा कवच भी है, जो अपनी छाती पर तूफान झेलकर संतान...
पिता छत है, पिता आकाश है। पिता वह सुरक्षा कवच भी है, जो अपनी छाती पर तूफान झेलकर संतान की रक्षा करता है।
आज जिन्हें मंगलमूर्ति कहते हुए लोग पूजा कर रहे थे, कल उनकी दुर्दशा। बाद में नालों में बहती टूटी-फूटी मूर्तियां और जलस्रोतों...
उनमें मनुष्य का दिल और नैतिकता की भावना का तो सवाल ही कहां है। मगर हमारा समाज भी अजीब है, ऐसी घटनाएं होने पर अक्सर हैवानियत...
स्वप्न विश्लेषक मधु टंडन ने एक अद्भुत किताब लिखी है, ड्रीम्स एंड बियॉन्ड। यह पुस्तक सपनों की बायलॉजी, दुनियाभर की हर...
कभी-कभी ऐसे रिश्ते भी बनते हैं जिनका संबंध न खून से होता है, न दुनियादारी से। ये रिश्ते मुंहबोले हों या अनकहे इनमें अलग...
भारतीय मां-बाप और शिक्षक यहां तक कि भारतीय स्कूल- कॉलेजों के प्रबंधक भी पाठ्येतर गतिविधियों को बहुत कम महत्व देते हैं।...
बारिश के दिन थे। बरामदे में बैठी दादी अपने नन्हे पोते से बात कर रही थी। बस ऐसी ही मासूम बातें जैसे कि बारिश संग धूप निकल...
जयपुर। साहित्य का कुंभ उत्सव। जयपुर लिटरेचर फेस्टिवल में आकर यही प्रतीत होता है। साहित्य और किताबों की दुनिया को अक्सर...
पुराने जमाने में एशिया के कुछ हिस्सों में एक गजब परंपरा थी, जो बीसवीं सदी की शुरुआत तक भी कायम रही। इन दिनों फारस, तुर्की,...
क्या हमारे खाने का संबंध हमारे मन के शांत रहने या व्यग्र रहने से है? तो जवाब है- हां है। भारतीय परंपरा में सदा से ये बात...
सुहानी धूप के दिनों में एक पुराने मोहल्ले की एक पुरानी दादी मां याद आती हैं। यह धूप घड़ी पढ़ने वाली दादी मां थीं। धूप सामने...
मूर्तियों पर रसायनयुक्त रंग चढ़ने लगे और देवों की मूर्तियां दैत्याकार बनने लगीं! फिर हर साल नई मूर्ति का चलन! इसके चलते...
रिश्ते की एक मामी का देहावसान हुआ, तब पता चला उनका नाम कुमुदिनी था। मामी का मायका धनबाद में था सो जीवनभर उन्हें धनबाद...
कई पूजाओं में तो पूजा के संग मूर्तिकला को भी महत्व दिया गया है। मिट्टी के बने गोगादेव हों या मां पार्वती, पुरानी स्त्रियों...
फिल्मकार राजकपूर की सृजन-प्रक्रिया पर लेखक व फिल्मकार जयप्रकाश चौकसे की एक पुस्तक हाल ही में प्रकाशित हुई है। यूँ तो...
एक कॉलोनी की एक गर्भवती स्त्री एक दूसरी स्त्री के पैर छूने आई। जिसके पैर छूने आई थी उसने पूछा- मेरे ही पैर क्यों छूना...
ब्रितानी लेखिका व पत्रकार ऐंजेला हथ ने स्वयं के बारे में एक दिलचस्प बात बताई है। वे कहती हैं कि वे दिनों और महीनों को...
इस दौड़ती दुनिया में लोगों ने अपने बच्चों को भी सिर्फ और सिर्फ भौतिक सुख-सौंदर्य की ओर भागने में लगा दिया है। ऐसे में...
अफ्रीकी देश घाना से जाकर न्यूयॉर्क में बसे लोगों के बारे में एक रिपोर्ट पढ़ रही हूँ। रिपोर्ट यह है कि घानावासियों में...