प्रभुदयाल श्रीवास्तव

12, शिवम सुंदरम नगर, छिंदवाड़ा, मध्यप्रदेश (Mo.-+919131442512)
चुनियां को मुनियां ने पकड़ा नीला रंग गालों पर चुपड़ा इतना रगड़ा जोर-जोर से, फूल गए हैं दोनों गाल।
मुन्ना राजा धरमपुरा के, सचमुच के हैं राजा। जिसका चाहें ढोल बजा दें, जिसका चाहें बाजा। पांच बजे सोकर उठते हैं,
पास हो गए पहले नंबर, ठोको ताली। जाएंगे नाना के घर कल, ठोको ताली।
तीन छछूंदर चढ़े रेल में, बिना टिकिट पकड़ाए। टी टी ने जुर्माना ठोका, रुपए साठ मंगाए।
कुछ तो बोलो बैगन भैया, तुम पढ़ते हो कक्षा कौन? क्यों गुमसुम चुपचाप खड़े हो, साध रखा है बिल्कुल मौन।
अम्मा ने तो धरो कलेबा, रोटी-साग एक डिब्बा में, लडुआ-बेसन के धर दये हैं, जो आये तोरे हिस्सा में।
गेट खोलकर कार बाहर निकालते-निकालते प्रभात की नजर बाईं तरफ बने कमरे की ओर चली गईं, जहां पापा दरवाजे के पास ही रखे सोफे...
छम-छम-छम-छम नाच बंदरिया, छम-छम-छम-छम नाच। भीड़ खड़ी है नाच देखने, कमर जरा मटका दे। पैर पटक ले आगे पीछे,
बन गए होते हाथ पैर ही, काश हमारे पंख। और परों के संग जुड़ जाते, कम्प्यूटर से अंक।
मां गुड़हल का फूल कहां है, लाकर मुझे दिखाओ। चित्रों वाले फूल दिखाकर, मुझको न बहलाओ।
भोला का गांव शहर से लगा हुआ है। 1 किलोमीटर के लगभग चले भी नहीं कि शहर का क्षेत्र आरंभ हो जाता है। उसके बाद इतना ही चलने...
हंसों मजे से, गाओ मजे से, हंसकर खाना, खाओ मजे से। बच्चों फिर दादी से बोलो, अच्छी कथा सुनाओ मजे से।
बिट्टी पढ़ री बिट्टी पढ़,आई गांव से चिट्ठी पढ़। चिट्ठी आई पांव से, नदी पार कर नाव से।
रानी दुर्गावती पर कविता- जब दुर्गावती रण में निकलीं हाथों में थीं तलवारें दो। धीर वीर वह नारी थी, गढ़मंडल की वह रानी...
ठंड नहीं लगती क्या चंदा, नंगे घूम रहे अंबर में। नीचे उतरो घर में आओ, सेकों जरा बदन हीटर में।
बच्चों ने डाली पर देखा तोता हरा-हरा। पत्तों के गालों पर उसने, चुंटी काटी कई-कई बार। पत्तों का भी उस तोते पर,
बंदर बोला, मिस्टर हाथी, क्यों लंगड़ाते आप। नहीं दिया उत्तर प्रणाम का, भाग रहे चुपचाप।
चॉकलेट यदि खाना हो तो, पैदल मेरे साथ चलो। यदि खिलौने लाना हो तो, पैदल मेरे साथ चलो।
दोनों खुशी से फूले नहीं समां रहे थे। घर के लोग उन्हें घेर कर बैठे थे। 'अब तो भैया इंजीनियर बन के ही आएंगे, ये गए और वो वापस...
बीच सड़क पर थूक दिया तो, नगर पालिका वाले आ गए। दादाजी को बिठा कार में, तुरत फुरत थाने पहुंचा गए।