लॉकडाउन में पढ़ें ये 10 किताबें, जीवन बदल जाएगा

अनिरुद्ध जोशी

बुधवार, 29 अप्रैल 2020 (09:08 IST)
लॉकडाउन में घर पर ही रहकर समय का सदुपयोग किया जा सकता है। यदि आप पढ़ने का शौक रखते हैं तो आपके लिए हम लाएं हैं ऐसी 10 रोचक और मजेदार किताबों की सूची जिन्हें पढ़कर सच में ही आपको लगेगा की कुछ पढ़ा और ज्ञान बढ़ा। आप इन्हें ऑनलाइन पढ़ सकते हैं। हालांकि हम जानते हैं कि हर व्यक्ति की नजर में उसके टॉप टेन भिन्न होते हैं।
 
 
1. ग्लिम्प्सेज ऑफ गोल्डन चाइल्डहुड : यह किताब हर पिता को पढ़ना चाहिए। इसमें ओशो ने अपने बचपन के दिनों और बच्चे की मानसिकता को बहुत ही सुंदर तरीके से कहा है। इस किताब में उन्होंने अपने बचपन के अलावा बीच-बीच में धर्म, इतिहास और राजनीति की ऐसी बातों का भी जिक्र किया है जिसे कम ही लोग जानते होंगे। वैसे ओशो की लाइट ऑन द पाथ, अल्फा दी ओमेगा और बियॉन्ड साइकोलॉजी भी बहुत ही पठनीय है।

 
2. खिलेगा तो देखेंगे : यदि आप उपन्यास पढ़ने के शौकिन हैं तो आप विनोद कुमार शुक्ल का यह उपान्यास जरूर पढ़ें। बहुत ही अलग शैली में लिखा गया यह उपन्यास जादुई वाक्यों से हमें चमत्कृत करता है। हालांकि उनका दो अन्य उपन्यास 'नौकर की कमीज', 'दीवार में एक खिड़की रहती थी' भी बहुत पठनीय है। इनका एक कविता संग्रह भी है- पेड़ पर कमरा।

 
3. दि सीक्रेट : रॉन्डा बर्न द्वारा लिखी यह किताब हिन्दी में रहस्य नाम से उपलब्ध है। यदि आप निराश, हताश और उदास हैं और हारा हुआ महसूस कर रहे हैं तो इस किताब को जरूर पढ़ें। उन्होंने जादू नाम से भी एक किताब लिखी हुई है।
 
 
4.उपनिषद : यदि आप अध्यात्म में रुचि रखते हो तो उपषिदों को पढ़ें। उपनिषदों को वेदों का सार या निचोड़ कहा गया है। उपनिषदों में कई रोचक और शिक्षाप्रद कहानियों के अलावा कई ऐसी रहस्यमयी बातें भी हैं जिन्हें जानकार समझकर आप हैरान रह जाएंगे। इनको पढ़ने और समझने के बाद आपका संसार को देखने का नजरिया बदल जाएगा। इसे किसी धर्म के धर्मग्रंथ के नजरिये से न देखें।

 
उपनिषद लगभग 1008 से भी अधिक हैं। उनमें से भी 108 महत्वपूर्ण हैं और उनमें से भी सबसे महत्वपूर्ण के नाम यहां प्रस्तुत हैं- 1. ईश, 2. केन, 3. कठ, 4. प्रश्न, 5. माण्डूक्य, 7. तैत्तिरीय, 8. ऐतरेय, 9. छान्दोग्य, 10. वृहदारण्यक, 11. नृसिंह पर्व तापनी।

 
5.अमीर बनने की किताबें : वारेन बुफ्फेट की पुस्तक 'द एस्से ऑफ वारेन बुफ्फेट' आपको अरबपति लोगों की सोच से अवगत कराती है। मुख्य रूप से यह कीमत और मूल्य के अंतर पर आधारित है। आप रॉबर्ट कियोसाकी की रिच डैड पूअर डैड भी पढ़ सकते हैं या स्टीव सिएबोल्ड की हाउ रिच पीपल थिंग भी पढ़ सकते हैं। नेपोलियन द्वारा लिखी पुस्तक think and grow (सोचिए और अमीर बनिए) भी पढ़ सकते हैं। भारतीय लेखक शिवखेड़ा की 'जीत आपकी' भी अच्छी किताब हैं।

 
6.अल्केमिस्ट : पाओलो कोएलो की यह पुस्तक एक मुसाफिर की कहानी है। सफर की परेशानियों को यह चित्रत करती है और जीवन के महत्व और संभावनाओं को दर्शाती है। इसे मिलती जुलती किताब रॉबिन शर्मा की है जिसमें एक सन्यासी जो अपनी संपत्ति बेचकर निकल पड़ता है अपने सपनों को पूरा करने और भाग्य का निर्माण करने के लिए।

 
7.योगी कथामृत : यदि आप सिद्धियों और चमत्कार को नहीं मानते हैं तो एक बार ये किताब जरूर पढ़े। आप की सोच बदल जाएगी। यह किताब परमहंस योगानंद की आत्मकथा है। दुनियाभर में सबसे ज्यादा पढ़ जाने वाली किताबों से एक है।

 
8.बाल नीति कथाएं : बाल और नीती कथाओं में भारत की पंडित विष्णु शर्मा की पंचतंत्र, नारायण पंडित की हितोपदेश, त्रिपिटक के सुत्त पिटक के खुद्दकनिकाय की जातक कथाएं, भवभूति ऊर्फ बेताल भट्ट की बेताल या वेताल पच्चीसी, पंडित सोमदेव (भट्ट) की कथासरित्सागर, सिंहासन बत्तीसी, तेनालीराम की कहानियां, अकबर बिरबल की कहानियां, चिंतामणि भट्ट की शुकसप्तति आदि किताबें आपके लिए आपके बच्चों के लिए प्रेरणादायी रहेगी।

 
9.वाल्डेन : हेनरी डेविड थोरो एक उन्नीसवीं शताब्दी के अमेरिकी ट्रांससींडेंटलिस्ट थे जो अपने निबंध "सिविल असहयोग" और उनके बाद के उपन्यास वाल्डेन के लिए जाने जाते थे। इनकी किताब 'वाल्डेन' बहुत ही अद्भत है। गांधीजी इनसे प्रेरित थे।

 
10.फिलॉसफी इन्वेस्टिगेशन : विट्गेंश्टाइन (1889-1951) की गिनती ऑस्ट्रेलिया और इंग्लेंड के फिलासफरों में ऊपर से शुरू की जाती है। उनके जीते जी एक ही पुस्तक प्रकाशित हो पाई Tractatus Logico-Philosophicus। बाद की प्रकाशित पुस्तकों में Philosophical Investigations काफी चर्चीत रही। विट्गेंश्टाइन केम्ब्रीज विश्वविद्यालय के प्रोफेसर रहे हैं। विट्गेंश्टाइन के पिता कार्ल एक यहूदी थे जिन्होंने बाद में प्रोटेस्टेंट धर्म अपना लिया था।
 
 

वेबदुनिया पर पढ़ें

सम्बंधित जानकारी