अरविन्द तिवारी

senior journalist
पश्चिम बंगाल के चुनाव के बाद कैलाश विजयवर्गीय का अगला टारगेट क्या रहेगा या पार्टी उनका उपयोग कहां करेगी? इसकी चर्चा...
कांग्रेसी मत बनो...अपने ही सरकार के खिलाफ गाहे-बगाहे तीखे तेवर अख्तियार करने वाले कृषि मंत्री कमल पटेल को पिछले दिनों...
यह किसी ने सपने में भी नहीं सोचा था की भाजपा के प्रदेश मुख्यालय में सर्वशक्तिमान माने जाने वाले राजेंद्र सिंह को वहां...
अपने मास्टर स्ट्रोक के लिए मशहूर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने किसान आंदोलन से एक बड़े नेता वीएम सिंह को अलग करने...
बात यहां से शुरू करते हैं : ई-टेंडर घोटाले की जांच मध्यप्रदेश की राजनीति में अपना असर दिखाने लगी है। नेता और नौकरशाही...
बात यहां से शुरू करते हैं...राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ की मंशा को भांपना और उसे अमल में लाने में सारी ताकत झोंक देना मुख्यमंत्री...
वास्तव में शिवराजसिंह चौहान की कोई जोड़ नहीं। कोरोना की आड़ लेकर नगरीय निकाय चुनाव डेढ़-दो महीने आगे बढ़वाकर मुख्यमंत्री...
मोती-माधव यानी मोतीलाल वोरा और माधवराव सिंधिया की तरह ही अब मध्यप्रदेश में शिव-ज्योति यानी शिवराज सिंह चौहान और ज्योतिरादित्य...
अपने मंत्रियों और आला अफसरों को लेकर 13 साल की अपनी तीन पारियों में सामान्यतः नरम रवैया अख्तियार करने वाले मुख्यमंत्री...
अपनी सक्रियता, सहज उपलब्धता और सीधे संवाद के कारण भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा कार्यकर्ताओं में...
मुरैना जिले के दिमनी विधानसभा क्षेत्र में ज्योतिरादित्य सिंधिया के कट्टर समर्थक गिर्राज दंडोतिया के मैदान में होने...
बात यहां से शुरू करते हैं : मौके का फायदा उठाकर अपना प्रोफाइल कैसे बड़ा किया जाए यह भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा...
बढ़ सकती है सिलावट और राजपूत की मुश्किल : जैसे-जैसे 21 अक्टूबर की तिथि नजदीक आती जा रही है तुलसी सिलावट और गोविंद राजपूत...
बीजेपी के रंग में पूरी तरह रंग चुके ज्योतिरादित्य सिंधिया ने उपचुनाव की तैयारी के लिए जबरदस्त भगवा फ़ोटो सेशन करवाया...
मध्यप्रदेश में कमलनाथ-दिग्विजयसिंह के बीच बढ़ती दूरी की खबरें निराधार हैं, हकीकत तो यह है कि दोनों में गजब का तालमेल...
एक वक्त ऐसा था जब दिग्विजय सिंह और ज्योतिरादित्य सिंधिया के बीच सिर्फ लकीरें खिंची हुई थीं, लेकिन अब तो राजनीतिक तलवारें...
दिल्ली में हुए कांग्रेस के चिट्ठी कांड के बाद मध्यप्रदेश में कांग्रेस की पॉलिटिक्स दिलचस्प मोड़ ले सकती है। दरअसल इस...
सत्ता में अपनी वापसी को लेकर कमलनाथ गज़ब का कॉन्फिडेंस दिखा रहे हैं। उपचुनाव के नतीजों पर बात करो तो जवाब देने के बजाय...
सत्ता और संगठन में विनय सहस्त्रबुद्धे का दबदबा बढ़ने लगा है। बढ़ते रुतबे के कारण उनके दरबार में भीड़ भी बढ़ने लगी है।
2014 में सारी परिस्थितियां अनुकूल होने के बावजूद भाजपा ने अपने दिग्गज कैलाश जोशी को राज्यपाल बनाने का आश्वासन देकर लोकसभा...