नई शायरी

नई शायरी - फ़ातिहा

शनिवार, 31 अगस्त 2013
बिगड़ते रिश्तों को फिर से बहाल मत करना, जो टूट जाएँ तो उनका ख़याल मत करना।